Kya Kare Kya na Kare Book Pdf Download

नमस्कार दोस्तों, आज की इस पोस्ट में हम आपको Kya Kare Kya na Kare Book Pdf Download मुफ्त में उपलब्ध करवाने जा रहे है, जिसे आप पोस्ट में दिए गए Download बटन पर क्लिक करके आसानी से फ्री में Download कर सकते है।

वर्तमान समय में उचित शिक्षा, संग, वातावरण आदि का अभाव होने के कारण समाज में शांति भंग हो रही है। शास्त्र के अनुसार क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए, इसके बारे में आज के लोग जानते भी नहीं और जानना भी नहीं चाहते है। वही यदि कोई शास्त्रीय व्यवहार को जानता है और इसे बताना चाहता है तो उसका मजाक बना दिया जाता है।

यदि आप अपने जीवन में क्या करे और क्या न करे, के बारे में जानना चाहते है तो इस पोस्ट को शुरू से लेकर अंत तक ध्यानपूर्वक जरूर पढ़े।

Kya Kare Kya na Kare Book Pdf Details

Kya Kare Kya na Kare Book Pdf Download
PDF TitleKya Kare Kya na Kare Book Pdf
Language Hindi
Category Book
PDF Size 7.4 MB
Total Pages 132
Download Link Available
PDF Source pdfbooks.ourhindi.com
NOTE - यदि आप Kya Kare Kya na Kare Book Pdf Free Download करना चाहते है तो नीचे दिए गए Download बटन पर क्लिक करे। 

Kya Kare Kya na Kare Book Pdf in Hindi

हिन्दू संस्कृति अत्यंत विलक्षण है। इसके सभी सिद्धांत पूर्णतः वैज्ञानिक और मानवमात्रकी लौकिक तथा परलौकिक उन्नति करने वाले है। मनुष्य मात्र का सुगमता से एवं शीघ्रता से कल्याण कैसे हो – इसका जितना विचार हिन्दू संस्कृति में किया गया है, इतना कही अन्यत्र उपलब्ध नहीं है।

जन्म से लेकर मृत्यु पर्यन्त तक मनुष्य जिन-जिन वस्तुओ एवं व्यक्तियों के संपर्क में रहता है और उनके साथ जो-जो क्रियाए करता है, उन सबको हमारे क्रांतदर्शी ऋषि-मुनियो ने बड़े वैज्ञानिक ढंग से सुनियोजित, मर्यादित एवं सुसंस्कृत किया है।

हिन्दू संस्कृति में कहा गया है कि जो मनुष्य शास्त्र विधि को छोड़कर अपनी इच्छा से मनमाना आचरण करता है, उसे न तो सिद्धि की प्राप्ति होती है, न सुख की और न ही परमगति की प्राप्ति होती है। इसलिए मनुष्य के लिए कर्तव्य-अकर्तव्य व्यवस्था में शास्त्र ही प्रमाण है।

ऐसा करकर मनुष्य इस लोक में शास्त्र विधि से नियत कर्तव्य करने योग्य बन जाता है और वह शास्त्र विधि के अनुसार कर्तव्य-कर्म कर सकता है।

क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए

शास्त्रों में इस बात जिस प्रकार से समझाया गया है, ऐसा आपको अन्यत्र कही भी उपलब्ध नहीं होगी। शास्त्र विधि के अनुसार मनुष्य को क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए, इन 20 प्रकार से समझ सकते है –

  1. सांयकाल में भोजन, स्त्री संग, निद्रा तथा स्वाध्याय नहीं करना चाहिए। क्योकि भोजन से व्याधि उत्पन्न होती है, स्त्रीसंग से क्रूर संतान उत्पति होती है, निद्रा से लक्ष्मी का ऱ्हास होता है और स्वाध्याय से आयु का नाश होता है।
  2. दिन में सुने घर, जंगल और श्मशान में निवास नहीं करना चाहिए।
  3. रात्रि में पेड़ के नीचे नहीं सोना चाहिए।
  4. अमावस्या के दिन जो कोई पेड़ काटता है या उसकी एक टहनी भी काटता है, उसे ब्राह्मण हत्या का पाप लगता है। अतः इससे बचे।
  5. सदैव दक्षिण या पूर्व की ओर सिर करकर सोये। उत्तर या पश्चिम की ओर मुख करके सोने से आपकी आयु का क्षीण होता है और आपके शरीर में अनेक प्रकार के रोग उत्पन्न होते है।
  6. पूर्व की ओर सिर करकर सोने से विद्या की प्राति होती है और वही दक्षिण की तरफ मुख करके सोने से आपकी आयु में वृद्धि होती है।
  7. यदि आप पश्चिम की ऒर मुख करके सोते है तो आप सदैव चिंता ग्रसित रहेंगे और वही उत्तर की ओर मुख करके सोने से मृत्यु तथा हानि होती है।
  8. टूटी खाट पर नहीं सोना चाहिए।
  9. बांस या पलाश की लकड़ी पर कभी भी नहीं सोना चाहिए।
  10. दूध वाले तथा कांटे वाले वृक्ष दंतमंजन के लिए सर्वश्रेष्ट माने गए है।
  11. स्नान किये बिना जो पुण्य काम किया जाता है, वह निष्फल होता है, उसे राक्षस ग्रहण कर लते है।
  12. एक वस्त्र धारण करके न तो भोजन करे, न यज्ञ करे और न ही दान करे।
  13. दोनों हाथ, दोनों पैर और मुख धोकर भोजन ग्रहण करना चाहिए। ऐसा करने वाला मनुष्य दीर्घजीवी होता है।
  14. बायें हाथ से जल उठाकर और मुँह लगाकर अर्थात पशु की तरह जल नहीं पीना चाहिए।
  15. ब्याने के दिन से लेकर दस दिन तक के भीतर गाय, भैंस, स्त्री, भेड़, बकरी, गर्भिणी और मरी हुई गाय के दूध का सेवन नहीं करना चाहिए।
  16. रविवार के दिन अदरख और लाल रंग का शाक नहीं खाना चाहिए।
  17. सूर्यास्त के बाद किसी भी प्रकार के तिलयुक्त पदार्थ का सेवन नहीं करना चाहिए।
  18. दोनों हाथो से अपना सिर नहीं खुजलाना चाहिए।
  19. जो मनुष्य प्रातःकाल में स्नान करके गाय को स्पर्श करता है, वह उसके सारे पापो से मुक्ति पा लेता है।
  20. घर में किसी की मृत्यु या जन्म होने पर ब्राह्मण दस दिन में, क्षत्रिय बारह दिन में, वैश्य पंद्रह दिन और शूद्र पुरे एक महीने के बाद शुद्ध होता है।

यदि आप क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए इन 20 तरीकों के अलावा और अधिक तरीको के बारे में जानना चाहते है तो पोस्ट में दी गयी पुस्तक निःशुल्क रूप से पीडीऍफ़ फॉर्मेट में डाउनलोड करके इसे पढ़ सकते है।

FAQs

Kya Kare Kya na Kare Book Pdf Download कैसे करे?

यदि आप इस पुस्तक को PDF फॉर्मेट में डाउनलोड करना चाहते है, तो पोस्ट में उपलब्ध Download बटन पर क्लिक करके आसानी से फ्री में Download कर सकते है।

Conclusion :-

इस पोस्ट में Kya Kare Kya na Kare Book Pdf Download मुफ्त में उपलब्ध करवाई गयी है। साथ ही क्या करे और क्या न करे इसके 20 तरीको के बारे में जानकारी दी गयी है। उम्मीद करते है कि Kya kare kya na kare book pdf download in hindi करने में किसी भी प्रकार की समस्या नहीं हुई होगी।

आशा करते है कि यह पोस्ट आपके लिए मददगार साबित हुई होगी। यदि आपको Kya Kare Kya Na Kare book in Hindi डाउनलोड करने में किसी भी प्रकार की समस्या आ रही हो तो कमेंट करके जरूर बताये। साथ ही Kya Kare Kya na Kare gita Press book को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे।

Download PDF :-

Leave a Comment