योगी आदित्यनाथ का जीवन परिचय। शिक्षा, परिवार, उम्र और पत्नी

नमस्कार दोस्तों, आज हम बात करने वाले है यूपी की राजनीतिक खबरों में सबसे पहले आने वाले नाम उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के बारे में, नाथ संप्रदाय से जुड़े हुए योगी जी 1998 में लोकसभा चुनाव में विजेता बन सबसे कम उम्र मात्र 26 वर्ष के सांसद बने तथा उन्होंने 19 मार्च 2017 को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ ग्रहण की

इनका पूर्व नाम कुछ और था जिसे हम लेख में आगे जानेंगे लेकिन 1994 में अवैद्यनाथ जी से दीक्षा प्राप्त कर योगी आदित्यनाथ सन्यासी बने, महंत अवैद्यनाथ जी ने मृत्यु से पूर्व योगी जी को अपना उत्तराधिकारी बनाने का निश्चय कर लिया तथा अवैद्यनाथ जी की मृत्योपरांत गोरखनाथ मंदिर का महत्व योगी जी को बना दिया गया।

गोरखपुर लोकसभा सीट में 5 बार सांसद चुने गए तथा वर्तमान में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद पर कार्यरत हैं। योगी जी भारतीय जनता पार्टी (BJP) की तरफ से राजनेता है जिन्होंने कई महान कार्य किए हैं, तो दोस्तों अब योगी जी के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त करते हैं कि किस प्रकार वे राजनीति में आए तथा आम जन के प्रिय नेता बन गए आगे के लेख में जानने का प्रयास करते हैं।

योगी आदित्यनाथ का जीवन परिचय (सामान्य)

  • नाम – अजय सिंह बिष्ट
  • निकनेम – योगी जी
  • प्रसिद्ध नाम – महंत योगी आदित्यनाथ
  • जन्म – 5 जून 1972
  • जन्म स्थान – उत्तराखंड, भारत
  • पिता – आनंद सिंह बिष्ट
  • माता – सावित्री देवी
  • भाई – महेंद्र सिंह व दो और है
  • बहन – शशि एवं दो और है

प्रारंभिक जीवन तथा शिक्षा (योगी आदित्यनाथ की जीवनी)

अजय सिंह बिष्ट के नाम से 5 जून 1972 को उत्तराखंड के पंचुर गांव में क्षत्रिय परिवार में इनका जन्म हुआ। यही अजय सिंह बिष्ट आगे चलकर योगी जी बने, इनके पिता आनंद सिंह बिष्ट फॉरेस्ट रेंजर एवं माता सावित्री देवी ग्रहणी थी। परिवार के सात भाई बहनों में यह पांचवें नंबर पर है। (योगी आदित्यनाथ का परिवार) इनकी शादी नहीं हुई है अभी तक यह अविवाहित है।

इनके एक भाई महेंद्र सिंह बिष्ट भारतीय सेना में एवं बड़ी बहन व दो छोटी बहन है एवं दो भाई विश्वविद्यालय में कार्यरत है।इनके शिक्षा की बात करें तो इन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा उत्तराखंड के पूरी प्राथमिक विद्यालय पौड़ी से प्राप्त की। विद्यालय शिक्षा पूर्ण करने के पश्चात विज्ञान और गणित में हेमवती नंदन बहुगुणा विश्वविद्यालय से स्नातक पूर्ण की।

गणित में एमबीबीएस करने के लिए एडमिशन लिया और उसी दौरान राम मंदिर को लेकर आंदोलन होने लगे एवं उससे योगी जी का मन पढ़ाई से हट गया और उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी।

सन्यासी जीवन

योगी जी के पिता आनंद सिंह बिष्ट फॉरेस्ट् रेंजर थे तथा उनकी मृत्यु के पश्चात योगी जी गोरखनाथ मंदिर में महंत बन गए योगी जी का नाम अजय सिंह बिष्ट था तथा वे महंत अवैद्यनाथ जी से जाकर मिले और 15 फरवरी 1994 को नाथ संप्रदाय की दीक्षा ग्रहण की

अवैद्यनाथ जी ने इनका नाम अजय से बदलकर योगी आदित्यनाथ रखा। सन्यासी बनने के पश्चात योगी जी देश तथा समाज की सेवा करने का निर्णय लिया । (योगी आदित्यनाथ का सन्यासी जीवन)

हिंदू युवा वाहिनी गठन

हिंदू युवा वाहिनी गठन की नीव 2002 में रखी गई यह संगठन नीजी सेना के रूप में बनाया गया जिसका प्रमुख कार्य राष्ट्रवादी तथा हिंदू विरोधी गतिविधियों को नियंत्रण करना था। 2005 में माओवादी विरोधी गतिविधियों को नियंत्रित किया। 2007 में इस संगठन में गोरखपुर के दंगों में भी विरोध प्रकट कर शांति फैलाई (योगी आदित्यनाथ जी का जीवन परिचय)

इस संगठन के सफल कार्यों से गोरखपुर में शांतिपूर्ण माहौल होने लगा एवं दंगों में भी काफी कमी आई जिससे योगी जी के प्रशंसक बढ़ने लगे योगी के प्रति प्रशंसा तथा विश्वास गोरखपुर में इतना बढ़ गया कि वे लोकसभा के सांसद के रूप में 2014 में 200000 से भी ज्यादा वोटों से जीते।

व्यावहारिक जीवन

योगी जी प्रातः काल 4:00 बजे उठ जाते हैं तथा उठकर 2 घंटे तक योग करते हैं। वे योग तथा सूर्यनमस्कार करना काफी पसंद करते हैं तथा जो योगा तथा सूर्य नमस्कार नहीं करता है उसे भारतीय कहना भी पाप मानते है। प्रातः वंदन तथा योगा के पश्चात वे गायों को चारा खिलाते हैं उसके पश्चात ही भोजन करते हैं क्योंकि वे गायों से लगाव रखते हैं अतः सुबह का नाश्ता भी गायों को चारा खिलाकर ही करते हैं।

योगी जी को सभी जानवरों से स्नेह तथा लगाव है परंतु गाय, बंदर, कुत्ता, बिल्ली, इन सभी से कुछ ज्यादा प्यार करते हैं। योगी जी ने कुछ संस्थाएं चला रखी है जिनमें सड़कों पर अधमरे तथा घायल जानवरों का इलाज किया जाता है।

योगी जी के कपड़ों की बात करें तो वह मशहूर “नाखूनी सादा कुर्ता” वो भी भगवा रंग का ही पहनते हैं नाखूनी सादा कुर्ता बनाने वाले दरजी के नाखून बड़े होते हैं तथा यह काफी मशहूर कुर्ता है जिसका भगवा रंग योगी जी सदैव पहनते हैं। योगी जी गोल गले वाला कुर्ता ही पहनते हैं तथा योगी के इस पोशाक को पहनने के बाद “नाखूनी सादा कुर्ता” की मांग बाजार में काफी बढ़ गई है।

योगी जी का राजनीतिक जीवन

योगी जी ने राजनीति में काफी सफल कार्य किए हैं, अगर इनके शुरुआती राजनीतिक जीवन की बात करें तो अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नेताओं में इनकी गिनती होने लगी अतः छात्र चुनाव संघ में चुनाव लड़ने का सोचा परंतु उन्हें टिकट ना मिलने पर निर्दलीय सदस्य बन चुनाव लड़े और 1993 में विजई हुए।

इसके पश्चात वे गोरखपुर के महंत बने, 26 साल की आयु में 1991 में बीजेपी की ओर से चुनाव लड़कर जीत प्राप्त कर सबसे छोटी उम्र के सांसद बन गए। इसके बाद वे कई बार चुनाव में जीतने रहे

1998 में पहली बार ,
1999 में दूसरी बार,
2004 में तीसरी बार,
2009 में चौथी बार,
एवं 2014 में पांचवी बार चुनाव जीते हैं। (उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री)

कई बार जीत ने उन्हें काफी विश्वसनीयता तथा प्रशंसा दिलाई 2014 में बीजेपी की तरफ से लोकसभा सांसद के पद पर लड़े जिसमें दो लाख से ज्यादा वोटों से विजय प्राप्त की । (yogi Adityanath biography in hindi) गोरखनाथ मंदिर के महंत बनने के पश्चात

गोरखनाथ मंदिर में एक सभा सन 2016 में हुई जिसमें आर एस एस के समस्त नेता गण आए और योगी जी को मुख्यमंत्री बनाने का निर्णय किया बीजेपी विधायक दल की बैठक में योगी जी को 19 मार्च 2017 को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री पद सौंपा गया।

उपलब्धियां तथा बड़े फैसले

योगी जी ने 2017 में मुख्यमंत्री पद पर बैठ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा अन्य कैबिनेट मंत्री गण के सामने शपथ ली, शपथ के साथ ही कई बड़े फैसले भी सुनाए अब आगे हम इनके बड़े फैसले तथा उपलब्धियों के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त करते हैं।

••• अवैध कसाई खाने बंद कराएं।

••• गायों की तस्करी पर रोक लगाने के लिए पुलिस को पूरी सख्ती बरतने का आदेश दिया और ‘जीरो टॉलरेंस’ की नीति अपनाने का आदेश जारी किया।

••• सरकारी कार्यालय, विद्यालय, अस्पताल, एवं विश्वविद्यालय में पान तंबाकू खाने पर रोक लगाई गई।

••• छोटे किसानों का कर्ज माफ कर दिया।

••• उत्तर प्रदेश के नोएडा सिटी को “फिल्म सिटी” बनाने का निर्णय लिया गया ।

••• कई मेट्रो एवं एक्सप्रेस-वे के कार्य किए एवं तीन नए इंटरनेशनल एयरपोर्ट बनाने का कार्य चल रहा है।

••• गंगा नदी की सफाई एवं राम मंदिर तथा पर्यटन स्थलों का काफी सुधार किया।

••• महिलाओं की सुरक्षा के लिए एंटी रोमियो का अभियान चलाया।

••• माफिया का निपटारा कर अपराधियों की अवैध संपत्ति सीज की।

••• राम जन्मभूमि मंदिर का शिलान्यास प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के हाथों करवाने में अहम भूमिका निभाई।

••• रामायण म्यूजियम का निर्माण अयोध्या में कराने के बात रखी और केंद्र सरकार द्वारा 154 करोड़ का फंड एवं राज्य सरकार द्वारा 25 एकड़ जमीन अयोध्या में दी गई।

••• राम मंदिर के निर्माण को लेकर अभी तक कोई स्पष्ट खबर योगी जी से जुड़ी हुई नहीं है लेकिन राम जन्मभूमि आंदोलन से जुड़े लोगों से इनकी अक्सर मुलाकात की खबर स्पष्ट है।

••• विद्युत की समस्याओं को खत्म कर दिया है।

••• लव जिहाद तथा पहचान छुपा लड़कियों से विवाह करने के खिलाफ सख्त कानून बनाया गया।

••• भ्रष्टाचार तथा अराजकता के लिए बड़ा फैसला लिया।

••• समाज से वीआईपी कल्चर हटाने का बहुत बड़ा निर्णय लिया जिसके अनुसार कोई भी मंत्री अपनी निजी गाड़ी में लाल बत्ती का उपयोग नहीं करेगा।

विवाद

योगी जी के राजनीति में आने के बाद वाद विवाद एक सामान्य बात है और मुख्यमंत्री बनने के बाद तो कई बार विवाद होते रहते हैं, हम उनके कुछ विवाद पर एक दृष्टि डाल देते हैं।

योगी जी पर सन 2005 में ईसाई धर्म के लोगों का धर्म परिवर्तन कराने का आरोप लगाया गया यह बताया गया कि योगी जी ने ईसाई (क्रिश्चियन) धर्म के लोगों को हिंदू धर्म मे एक विशेष तरह से धर्म बदलवा रहे हैं और एटा नामक स्थान पर उत्तर प्रदेश के लगभग 18 लाख लोगो को ईसाई धर्म से हिंदू धर्म में परिवर्तित कर दिया ।

योगी जी पर आजमगढ़ में 7 सितंबर 2008 को जानलेवा हमला हुआ (योगी आदित्यनाथ से जुड़े विवाद) जिसमें 100 से ज्यादा गाड़ियों ने उन्हें घेर लिया तथा कई लोग लहूलुहान हो गए इस हमले से वे बाल-बाल बचे।

एक बार मोहर्रम के मुस्लिम त्योहार पर फायरिंग के दौरान एक हिंदू युवा की मृत्यु हो गई तब गोरखपुर के चल रहे दंगों में योगी जी को गिरफ्तार कर लिया गया था लेकिन योगी जी ने वहां जाने की मांग की। जिला अधिकारी ने योगी जी को उस स्थान पर जाने से इंकार कर दिया परंतु योगी जी वहां जाने की बात पर अड़े रहे।

शहर में लगे कर्फ्यू को हटाने की मांग के साथ शहर के बीचोबीच श्रद्धांजलि सभा की घोषणा भी कर दी जिसे जिला अधिकारी ने अस्वीकार कर अनुमति नहीं दी इसके बावजूद योगी जी ने श्रद्धांजलि सभा पूरी की और हजारों लोगों के साथ गिरफ्तारी दे दी।

योगी जी पर कार्यवाही की गई और सीआरपीसी की धारा 151 196 147 279 506 के तहत जेल भेजा गया इस फैसले से प्रभावित लोगों ने मुंबई गोरखपुर गोदान एक्सप्रेस रेल के डिब्बों में आग जला दी और इसका आरोप योगी जी के हिंदू युवा वाहिनी संगठन पर लगाया गया उसके अगले दिन ही जिला अधिकारी तथा पुलिस अधिकारी का तबादला हो गया।

विवादास्पद बयान

योगी जी ने कुछ विवादों को लेकर बयान दिए हैं जिनमें से एक दो हम देख लेते हैं।

एक और सोशल मीडिया पर बॉलीवुड के हीरो शाहरुख खान के विषय में हो रही बातो तथा विवादों को लेकर योगी जी ने उसकी तुलना आतंकवादी हाजिर शरीफ़ से की है। देश ने शाहरुख खान को स्टार बना रखा है। अगर देशवासी उसकी फिल्में देखना बंद कर दें तो शाहरुख खान रोड पर आ जाएगा

और यह वाकई सत्य भी है कि एक मुस्लिम हमारे देश पर राजा की तरह जीवन यापन कर रहा है और देशवासी का अहित भी करता रहता है मगर देशवासियों की आंखें अभी भी बंद ही है। (yogi Adityanath biography in short)

तथा दूसरी और योगी जी ने योगा तथा सूर्य नमस्कार करने की बात पर विशेष जोर दिया है। 9 जून 2015 को उन्होंने इस विषय पर चर्चा की उन्होंने सूर्यनमस्कार ना करने वाले तथा योग का विरोध करने वाले लोगों का अपना निशाना बनाया।

उन्होंने कहा कि जो सूर्य नमस्कार में भी हिंदू मुस्लिम धर्म को देखते हैं उन्हें भारत में रहने का कोई हक नहीं तथा उन्होंने नाक डूबा कर मर जाने की बात भी कही है। जो सूर्य नमस्कर नहीं करते या उसका विरोध करते हैं तथा योगा में रुचि नहीं लेते योगा नहीं करते वह भारतीय के नाम पर कलंक है।

FAQ

योगी आदित्यनाथ का वास्तविक नाम क्या है?

अजय सिंह बिष्ट।

योगी आदित्यनाथ का जन्म कब व कहां हुआ?

इनका जन्म 5 जून 1972 को उत्तराखंड के पंचूर गांव में हुआ।

योगी आदित्यनाथ का प्रसिद्ध नाम क्या है?

योगी जी।

योगी आदित्यनाथ के माता पिता कौन है?

इनके पिता आनंद सिंह बिष्ट फॉरेस्ट रेंजर थे तथा इनकी माता सावित्री देवी ग्रहणी थी।

योगी आदित्यनाथ की पत्नी का नाम क्या है?

महंत योगी आदित्यनाथ जी अभी भी अविवाहित हैं उनकी शादी नहीं हुई है।

योगी आदित्यनाथ ने कहां तक की शिक्षा प्राप्त की है?

गणित और विज्ञान में स्नातक की डिग्री हेमवती नंदन बहुगुणा विश्वविद्यालय से प्राप्त की है।

तो दोस्तों, आज हमने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के बारे में सारी जानकारी प्राप्त की है वह कई विवादों में भी फंसे हुए हैं तथा उन पर कई प्रकार के आरोप भी लगाए गए हैं। योगी जी ने हमारे देश के लिए तथा हिंदू धर्म के लिए कई बड़े-बड़े कार्य किए हैं जिससे उनके प्रशंसक काफी बढ़ गए हैं।

योगी जी ने सन्यासी जीवन जीते हुए अपने राजनीतिक जीवन को भी बड़ी सरलता से जिया है तथा राजनीतिक जीवन में उन्होंने कई अच्छे कार्य किए हैं जिससे उन्हें पूरा देश जानता है। तो दोस्तों कैसी लगी आपको यह जीवनी और क्या आप भी योगी आदित्यनाथ जी को पसंद करते हैं और उनके फैसलों से खुश है तो कमेंट कर अवश्य बताएं तथा लेख को लाइक व शेयर करे धन्यवाद।

Related Articles:-

Tushar Shrimali Jivani jano के लिए Content लिखते हैं। इन्हें इतिहास और लोगों की जीवनी (Biography) जानने का शौक हैं। इसलिए लोगों की जीवनी से जुड़ी जानकारी यहाँ शेयर करते हैं।

Leave a Comment